अच्छा लगता है !

अच्छा लगता है 
पंछियों को आज़ाद करके 

पिंजरा छोड़ जब वो

उड़ते हैं ऊपर 

डैने नापते हैं अपने 

और नापते हैं 

आसमान की ऊंचाई ।

अच्छा लगता है 

उन्हें ऊंचा उड़ता देख

दूर जाता देख।

पिंजरा था आशाओं का 

जंजीरें थी उम्मीदों की

जो गले पर कसती थी 

प्यार के नाम पर ।

अच्छा लगता है 

पिंजरे का ताला खोल

पंछी को 

दरवाज़े तक आता देख ।

पंछी के दिल में था 

राजकुमारी के लिए प्यार 

और थी चाहत 

ऊंचा उड़ने की ।

अच्छा लगता है 

आज़ादी की चाहत को 

जीतता देख

प्यार को हारता देख ।

राजकुमारी के नंगे पाँव पर

महसूस होती है 

भट्टी की आग।

अच्छा लगता है 

प्यार के पिंजरे के 

लोहे को पिघलता देख।

Advertisements

3 thoughts on “अच्छा लगता है !

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s